अब चॉकलेट अच्छी नही लगती।।

माँ अब मुझे चॉकलेट नही अच्छी लगती है।
इसके लालच मे सब ख़त्म हो जाता है,
माना माँ ये बहुत स्वादिष्ट होती है।
पर इसकी कीमत तो बहुत भारी होती है।
एक चॉकलेट का लालच बहुत कुछ छीन लेता है।
कितना गहरा दंश दे देता है।
हाँ ,माँ अब मुझे चॉकलेट अच्छी नही लगती है।
अब वो मुझे बहुत कड़वी लगती है।
वो अंकल चॉकलेट दिखाकरआज उसे ले गए।
तो कल मुझे भी ले जा सकते है।
नही मां मुझे अब चॉकलेट नही अच्छी लगती है।
माँ ,हमारा कसूर क्या है माँ।
क्या ,हमारा लड़की होना अभिशाप है माँ।
क्यो ,एक चॉकलेट के बदले हमे लहूलुहान कर दिया जाता है।
मां हम तो मासूम और नादान है।
फिर क्यों हम पर ऐसा घिनोना अत्याचार होता है।
क्यो ,किसी हैवान का कलेजा फट नही जाता है
नही चाहिए कोई खिलौना ना ही कोई गुड़ियां।
इसकी कीमत तो उम्र भर का पछतावा है।
इसलिए ,माँ मुझे अब खिलोने अच्छे नही लगते।
माँ ,उसकी माँ कितना रो रही थी।
माँ ,मेरी माँ ,तुम्हे कभी इतना रोना न पड़े।
इसलिये अब मुझे चॉकलेट नही अच्छी लगती।
अब मुझे चॉकलेट बिल्कुल अच्छी नही लगती।

Advertisements

उपहार!

उपहार की प्रासंगिकता पृथक -पृथक है।
उपहार पिता का बेटी के विवाह मे ,
जिसका चित्रांकन तो किया जा सकता है ।
पर मूल्यांकन नही किया जा सकता।।
जिसके आकलन का आधार तो है।
पर परिमार्जन का विवरण नही दिया जा सकता।।
उसके ब्रह्याण्ड का संशिप्त है बेटी।
पर बेटी का एकमात्र ब्रह्याण्ड वो हो नही सकता।।
कल तक साया थी वो उसकी।
आज दूसरा हमसाया उपहार मे वो लाया है।।
जीवन मंजूषा का अनमोल रत्न है वो।
उसे सहज समर्पित कर कर्तव्यनिर्वाहन वो कर आया है।।
प्रामाणिक था उसका दुख।
पर फिर भी मौन रुदन कर नतमस्तक वो हो गया है ।।
मिलन व वियोग की संयुक्त वेला मे।
सुख -दुख की व्यंजना के क्षणों मे।
अपनी अंतिम पूंजी वर्षो से पोषित जीवन धरोहर की सौगात
वो सौप आया है।।
उपहार पिता का बेटी के विवाह मे,
जिसका चित्रांकन तो किया जा सकता है।
पर मूल्यांकन नही किया जा सकता।।
किसी के लिए वो जीवन भर की पूंजी है।
तो किसी के लिए वो किन्चित मिथ्याभिमान की कुंजी है।।

बंद दरवाजा !!

पुराना खँडहर ,सूना दालान ।
मूक स्मृति का रुद्र क्रंदन ।।
टूटी खिड़कियां, ढहते गुम्बद ।
कराह रहा है दर्द पलायन ।।
जख्मी झरोखे से बाहर झांकता अतीत ।
आहट और दस्तक का अंतहीन इंतजार ।।
दरवाजे की बंद सांकल पर मौन जंग ।
असमंजस के क्षण क्षण पलछिन कटते दिन ।।
धुँए से धुँधली पड़ गयी काली दीवारे ।
हर लम्हा पदचाप की ध्वनि तलाशता।।
बंद दरवाजे की संकरी झिरी से झांकता ।
वृतांत सुनहरे आह्लादित अतीत का।।
खंडित मेहराब और गिरते कंगूरे ।
असंख्य स्मृतियों के संग्रहालय ।।
मौन पतन के साक्षी बंद गवाक्ष ।
शशक्त सृजन शर्मसार विखंडन का उदारहण।।
क्रूर व्यंग्य निष्ठुर पलायन का
अभिशप्त अहिल्या समान प्रस्तर सा अडिग बंद दरवाजा ।
अपने राम के स्पर्श के अभिलाषी ।।
द्वार पर बुतनुमा ताला और जर्जर भित्तियों से झांकती ईंटे।
खुद को खुरच कर विस्मृति की वेदना का वंदन।।
उजाड़ निर्जन ठंडी आह भरते खँडहर के मानिंद मकां
कब से कब तक कि व्याख्या करते ,
कि संघर्ष अभी जारी है ,पर हौसला अभी बुलंद है ।।
दस्तक की अभिव्यंजना गुंजित होगी।
औऱ स्नेहनीड़ का पुनः सृजन अवश्यम्भावी है।।

Book launch event at Asian Literary Society

I got a little late in updating and sharing with you all that last month I got the honour of participating in the Asian Literary Society’s first convener meet, held in New Delhi where my book ‘SPANDAN’ was launched!

My book is a collection of poetry and it is my first book published.

I would be honored to get your views on the book.

You can find my book on amazon.in –

https://www.amazon.in/Spandan-Pratima-Mehta/dp/1946822779/ref=mp_s_a_1_1?ie=UTF8&qid=1541439892&sr=8-1&pi=AC_SX118_SY170_QL70&keywords=spandan+pratima+mehta&dpPl=1&dpID=51qX7wR9fAL&ref=plSrch


– Pratima Mehta

ख्वाहिशें

ख्वाहिशों का क्षितिज असीम है |

कल्पनाओँ का विराट सैलाब है ||

कभी , अनकही अधूरी ख्वाहिशों का जाल |

तो कभी , गवाक्ष खोल उडान भरती हसरतो का अंदाज ||

कभी ,नव जीवन सृजन की पल्लवित अभिलाषाएँ |

तो कभी ,मानवता के ध्वँस को उन्मुख ख्वाहिशें|

कभी ,अभीष्ट पर कुर्बान होने की तमन्ना |

तो कभी ,अन्तः ज्वाला से तपित दग्ध कामना ||

कभी ,प्रणय रागिनी की अलौकिक धारा से स्पंदित अभिलाष |

तो कभी ,चिर विरही मिलन की आकुल तृषा||

कभी ,काल्पनिक स्वर्ग की ख्वाहिश |

तो कभी ,मन के खंडहर की प्रदक्षिणा की गुज़ारिश||

कभी ,शून्य से शिखर तक उत्थान की कामना |

तो कभी ,धूमिल स्वप्न पतन की कंपित आशंका ||

कभी ,अति सूक्ष्म निराकार निर्मल आनंदित ख्वाहिशें |

तो कभी ,बंधन विहीन विहंगम फरमाइशें ||

कभी ,शैशव के सपने.व् मदमाते यौवन की ख्वाहिशें |

तो कभी ,कर्तव्य कर्म से बंधन मुक्त होने की हसरते ||

कभी ,मृगतृष्णा से भ्रमित संचित आकांक्षाये |

तो कभी ,कटु सत्य से प्रेरित अभिलाषाएँ ||

आरम्भ बिंदु है ख्वाहिशों का ,

मनुज के प्रथम खोलते लोचन मे|

और हुलसती है ,प्राणहंत होने तक ||

ख्वाहिशे चिरन्तर आस की स्फुलिंग है |

इसलिए, ख्वाहिशों का क्षितिज असीम है ||

जरा सा हौसला होता तो

जरा सा हौसला होता तो ,तूफ़ां से गुजर जाते |

जीने का सहारा होता तो ,हद से गुजर जाते ||

हमसफ़र का साथ होता तो, जिंदगी मे कई रंग भर जाते

तिनके का सहारा होता तो , दरिया जिंदगी का पार कर जाते ||

असर गर होता अल्फ़ाजों मे तो , महफ़िल को कायल कर जाते |

वक्त गर सख्त न होता तो , उल्फत की सरहद पार कर जाते ||

काफिले बहारो के रूठे न होते तो, रुपहले अरमान मंजिल पा जाते ||

रिश्ते गर पुख्ता होते तो , मकाँ घरोंदे मे तब्दील हो जाते

अधूरी किस्मत का सितारा गर बुलंद होता तो, वस्ल की सूरत मिल जाती ||

गर रहगुज़र सूनी ना होती तो, मंजिल आसां हो गयी होती

रुबाई गर रूठी ना होती तो ,दिलकश ग़ज़ल बन गयी होती ||

दिल के वीराने पर नजरें करम होता तो ,मेहताब आगोश मे होता ||

पलके झुका ना ली होती तो, खवाबो की ताबीर मुकम्मल हो जाती ||

गर सहर ना होती तो ,इंतजार को मंजिल मिल जाती ||

गर दिल के हर्फ़ पर नाम लिख लिया होता तो , सिरते इश्क से वाकिफ हो गए होते ||

बहुत दूर तलक

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

कारवां बढ़ चला मंजिल की ओर,

और हम यादो को दफ़न कर आये कब्र मे ||

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

,बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

दास्तां मुक्त हो गयी अपने अंजाम से ,

और हम ताबीर मिटा आये चंद लम्हो की इबारत से

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

,बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

अंदाजे बयां बदल दिया बाअदब अल्फाज से

और तब्दील होगये मुख़्तसर अपने आप से ||

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

,बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

कांधो पर ढोना छोड़ दिया रिश्तो के बोझ को

और वजूद को सिमटा लिया अपने ही खोल मे ||

, बहुत दूर तलक आ गए हम

बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

खलिश से दामन छुड़ा लिया जुबां ने

और संवारना छोड़ दिया काँटों सजे गुलो को गुलशन मे

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

,बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

एहसास शिद्दत तर कर गयी दामन को ,

और दस्ताने गम को दरबदर कर आये दिले आशियाँ से |

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

,बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

रंग ए महफ़िल सज गयी रंग महल मे ,

और लबो पर ,तरनुम छेड़ आये पैगामे जिंदगी के ||

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

,बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

फासले मिट गए दरमियाने मेहताबो के

और हम तो मुक्त हो गए सरहदों के जाल से

बहुत दूर तलक आ गए हम ,

,बहुत पीछे कही छूट गए तुम |

कभी फुर्सत हो तो

कभी फुर्सत हो तो गुजरना उन पुरानी गलियों से ,

शायद मिल जाये चिर -विरही कोई बेहद अपना ||

कभी फुर्सत हो तो पलटना समय चक्र को ,

शायद विलुकित दृग को मिल जाये पल कोई सुनहरा ||

कभी फुर्सत हो तो सुनना दस्तक मन की पगडण्डी पर ,

शायद सुनाई दे उन कदमो की आहट जिनके निशाँ अब तलक उकरे हुए है ||

कभी फुर्सत हो तो ढ़ूढ़ना दिल के आईने मे,

शायद अब भी एक अक्स नज़र आये किसी सःह्रदये का ||

कभी फुर्सत हो तो उलटना पुरानी किताब के पन्नो को ,

शायद मिल जाये सूखा एक गुलाब जो दिया किसी स्नेहमयी ने ||

कभी फुर्सत हो तो झांकना यादो के गलियारे में ,

शायद स्मृति दीप एक जल रहा हो किसी प्रेमपथ का ||

कभी फुर्सत हो तो खोलना गठरी बीते समय की ,

शायद महकता एक खत मिल जाये गुजरे अतीत का ||

फुर्सत हो तो टटोलना तमन्नाओ की फेहरिस्त को ,

शायद शिकवा कोई जुबां पर आ जाये किसी की बेवफ़ाई का ||

फुर्सत हो तो करना तलाश उजड़े स्वप्निल आशियाने की

शायद मिल जाये दबी कोई नक्काशित ईंट दो से हुए एक नाम की ||

मै बिखर बिखर जाता हूँ

मै बिखर बिखर जाता हूँ|

तुम सिमट जाओ , मै बिखर बिखर जाता हूँ|

तुम संवर जाओ, मैं मिट मिट जाता हूँ ||

तुम उजाले मे रहो , मैं अंधेरो मे गुम हो जाता हूँ |

तुम मगरूर रकीब हो जाओं , मैं मजबूर हबीब हो जाता हूँ ||

तुम नजरें रोशन रहो , मैं बेनजऱ हो जाता हूँ |

तुम सुकूने आबाद रहो , मैं बर्बादे जहां हुआ जाता हूँ

||

तुम ताजदार रहो , मैं खाकसार हुआ जाता हूँ |

तुम राहते आशियाँ रहो , मैं दरबदर हुआ जाता हूँ ||

तुम मैं के गुरुर मे रहो , मैं हम की तफसील मे खो जाता हूँ ||

तुम मंजिले चाहत पा जाओ, मैं गर्दिशे तूफ़ां से गुजर जाता हूँ |

तुम राहते हयात रहो , मैं फिक्र का सूरज रोशन किये जाता हूँ ||

तुम नजरें कायनात रहो, मैं बेदर्द निगाहो का निशाना हो जाता हूँ |

तुम शायरे ग़ज़ल बन जाओ, मैं नज़म उलझी बन जाता हूँ ||

तुम बेवफाई से दामन तर रहो , मैं शर्त ऐ वफ़ा निबाह जाता हूँ |

तुम कहानी का अहम् किरदार हो जाओ , मैं अधकही कथा का सफर वीरान हो जाता हूँ ||